जरूर करे ये 10 चीजे अपने बच्चे के जन्म के बाद: घर या अस्पताल में हुए बच्चो के लिए

1. अस्पताल में बच्चे के जन्म के बाद: नए माताएं क्या उम्मीद कर सकती हैं

2. अस्पताल से डिस्चार्ज होने से पहले क्या करे

3. घर में बच्चे के जन्म के बाद: नई माँ क्या उम्मीद कर सकती हैं

4. जन्म के बाद पहले सप्ताह में आपकी भावनाएं क्या हो सकती है

5. एक दाई या स्वास्थ्य नर्स अगर घर पर बच्चे को देखने आये

6. स्तनपान कराना सीखना

7. बच्चे की देखभाल के बारे में सीखना

8. खुद के शरीस को थोड़ा आराम देना

9. घर का खाना और पीना कैसे संभाले

10. घर पर बच्चे को देखने आने वाले रिश्तेदारों और दुसरे लोग


1. एक अस्पताल या जन्म केंद्र के जन्म के बाद: नए माताएं क्या उम्मीद कर सकती हैं

यदि आपका बच्चा एक अस्पताल या जन्म केंद्र में पैदा हुआ था, तो आप और आपका बच्चा संभवतः कम से कम 24 घंटे अस्पताल में रहेंगे।

यदि आप दोनों अच्छी तरह से ठीक है तो आपको घर जाने के लिए परामर्श दिया जा सकता है। यदि आप घर पहले जाना चाहते हैं या और समय तक रहना चाहते हैं, दोनों स्थितियों में अपने डॉक्टर से बात करे ।


यदि आपको कोई भी शारीरिक मुश्किल है तो आपका अस्पताल में रहना लंबा हो सकता है, - उदाहरण के लिए, सीजेरियन जन्म । इन स्थितियों में आप 2-5 दिनों तक अस्पताल में रह सकते हैं। ऐसे में आपके बच्चे को भी अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है।


यदि आपका बच्चा समय से पहले पैदा हुआ था, तो संभवतः उसे नवजात गहन देखभाल इकाई (NICU) या विशेष देखभाल नर्सरी (SCN) में रहने की आवश्यकता होगी।


2. अस्पताल से डिस्चार्ज होने से पहले क्या करे

यह आपके और आपके बच्चे की सेहत के बारे में जानने में मदद करता है और घर पर अपने बच्चे को पहले के कुछ हफ्ते कैसे संभाले, इसमें मदद करेगा।


इससे पहले कि आप अस्पताल छोड़ें आपको या आपके घर वालो को निम्न बातें पता करनी चाहिए

• स्तनपान कैसे कराये और कोई दिक्कत होने पर किससे पूछे

• रेगुलर चेक-अप के लिए कब और कहां जाएं

• आप क्या कार्य कर सकती है या नहीं जैसे की ड्राइविंग या घर के बाकि काम

• आपके टांके कब और कहाँ हटाए जायेंगे (यदि वो निकलवाने है तो)


आप अपने नए बच्चे की देखभाल के बारे में भी पूछ सकते हैं। उदाहरण के लिए इन चीजों को जानना अच्छा है:

• आपके नवजात शिशु को कितने फ़ीड्स की आवश्यकता हो सकती है और कितने समय तक फीड्स लेने पड़ सकते हैं

• आराम और खिलाने के लिए अपने बच्चे के संकेतों को कैसे पहचानें

• आपके या आपके बच्चे को बीमार होने पर किसे और कैसे फ़ोन करना है


आपकी दाई या डॉक्टर आपको आपकी देखभाल के हिस्से के रूप में यह जानकारी देंगे।

बच्चों को कपड़े धोना, लंगोट खरीदना और स्वस्थ खाद्य पदार्थों के साथ अपने फ्रिज और पेंट्री को भरने जैसे व्यावहारिक कामों में मदद के लिए दोस्तों या परिवार के सदस्यों से पूछना एक अच्छा विचार है।


3. घर में बच्चे के जन्म के बाद: नई माँ क्या उम्मीद कर सकती हैं

यदि आपने घर पर बच्चे को जन्म दिया है, तो आपकी दाई को जन्म के पूरा दिन तक आपके साथ रहना चाहिए जब तक आप और आपका बच्चा स्थिर न हो जाये और स्तनपान शुरू हो जाये, यह आमतौर पर जन्म के चार घंटे बाद होता है।

जब तक आपका शिशु लगभग छह सप्ताह का नहीं हो जाता, तब तक आपको और आपके शिशु को आपकी देखभाल और सहायता चाहिए होगी।


4. जन्म के बाद पहले सप्ताह में आपकी भावनाएं क्या हो सकती है

चाहे आपने घर पर या अस्पताल में जन्म दिया हो, आपका शरीर बहुत थक चुका होता है । अच्छी खबर यह है कि आप अब ठीक होना शुरू कर देंगे, और आप आमतौर पर दर्द और परेशानी को बर्दाश्त कर लेंगे ।

ज्यादातर महिलाएं जन्म देने के तुरंत बाद थका हुआ महसूस करेंगी। आप राहत, खुशी, भय और खुशी भी महसूस कर सकते हैं। जन्म के 3-5 दिन बाद आप तनावग्रस्त और चिंतित महसूस कर सकते हैं - इसे 'बेबी ब्लूज़' कहा जाता है। सामान्यता 'बेबी ब्लूज़' केवल कुछ दिनों के लिए रहता है।

आपके साथी से इस बारे में बात करने से मदद मिलती है कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं। इससे आप दोनों को आपके मूड में होने वाले किसी भी बदलाव के बारे में पता चलता है और आपका साथी और परिवार वाले आपकी सहायता कर सकते है।

आप शायद एक या दो सप्ताह में खुद को फिर से ठीक महसूस करने लगेंगे। यदि नीली भावनाएं दूर नहीं होती हैं, तो मदद लेना महत्वपूर्ण है। हर सात महिलाओं में से एक के लिए, ये भावनाएं बच्चे के जन्म के बाद अवसाद बन जाती हैं। जब महिलाओं को जल्दी मदद मिलती है, तो वे आमतौर पर इस अवसाद से पूरी तरह से उबर जाती हैं।


5. एक दाई या स्वास्थ्य नर्स अगर घर पर बच्चे को देखने आये

यदि आपके बच्चे का जन्म घर में हुआ था, तो आपकी दाई आपको नियमित रूप से (शुरूयात में हर रोज ) और फिर कम बार, वैसे दाई का घर आना आपके और आपके बच्चे की सेहत पर निर्भर करेगा।

यदि आपके बच्चे का एक अस्पताल में जन्म हुआ है, तो एक दाई या बच्चे और परिवार की स्वास्थ्य नर्स अस्पताल छोड़ने के बाद सप्ताह में आमतौर पर एक बार घर पर बुला सकती है । वे आपके और आपके बच्चे की जांच करेंगे, और आपके सवालों का जवाब देंगे। कुछ नयी माँ एक निजी स्तनपान सलाहकार को देखने का विकल्प भी चुनते हैं। यदि आपके पास अन्य जरूरी सवाल या चिंताएं हैं, तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श ले सकते है


6. स्तनपान कराना सीखना

स्तनपान कराना कभी-कभी नई माताओं के लिए मुश्किल हो सकता है, लेकिन ऐसी स्तनपान तकनीक खोजना जो आपके और आपके बच्चे के लिए काम करती है, काफी मदद कर सकती है। त्वचा से त्वचा से संपर्क करवाने से और शुरुआती घंटों और दिनों में अपने बच्चे को आपके करीब रखने से मदद होती है। लेकिन स्तनपान को समझने में कई सप्ताह लगना सामान्य है। यदि आपको स्तनपान कराने में कोई समस्या है, तो दाई से बात करें


7. बच्चे की देखभाल के बारे में सीखना

यदि आप पहली बार माँ बानी हैं, तो आपके लिए अपने नए बच्चे की देखभाल के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है। उदाहरण के लिए, आपको संभवतः इसके बारे में जानने की आवश्यकता होगी:

• स्तन पान या बोतल से दूध पिलाना

• डिस्पोजेबल या कपडे का लंगोट बदलना

• बच्चे को नहलाना

• नवजात की दिनचर्या का पता लगाना

• शिशुओं के लिए सुरक्षित नींद।


8. खुद के शरीर और दिमाग को थोड़ा आराम देना

कभी-कभी दिन को थोड़ा हल्का रख सकते है और सिर्फ आप अपने बच्चे को और खुद को ध्यान दे। ऐसे दिनों पर सिर्फ आराम करने की कोशिश करें, और अपने बच्चे को जानने के लिए खुद को समय दें।। यह पूरी तरह से ठीक है।

पहले कुछ दिनों के लिए आप जिस पर भरोसा करना चाहते हैं, उसके लिए भी अच्छा है - उदाहरण के लिए, आपका साथी, परिवार का कोई सदस्य या मित्र। यदि आप के पहले से बच्चे है तो घर में कामो में मदद करना अभी भी अच्छा है, खासकर यदि आपके पास अन्य बच्चों की देखभाल करने के लिए कोई नहीं है।


9. घर का खाना और पीना कैसे संभाले

काफी दिनों में खाना बनाने के लिए समय निकालना कठिन हो सकता है, यदि आपके दोस्त और आपके परिवार वाले भोजन बनाने की पेशकश करते हैं, तो उन्हें स्वीकार करें। आप थोड़ा ready-to-eat भोजन, सूप और इस तरह की चीजे भी खरीद सकते हैं जो बिजी दिनों में काम आएंगे। समय बचाने का एक और तरीका है कि आप ऑनलाइन खरीदारी करें और अपनी किराने का सामान घर तक मंगवाए ।


10. घर पर बच्चे को देखने आने वाले रिश्तेदारों और दुसरे लोग को कैसे संभाले

परिवार और दोस्त आपको और आपके बच्चे को देखने के लिए उत्साहित होंगे और आपके घर पर आना चाएंगे।

आप अपने और अपने बच्चे की दिनचर्या के हिसाब से लोगो को घर पर बुला सकते है की किसीको कैसे और कब बुलाना हैं। लेकिन उसमे ध्यान रखे की आप अपने रिश्तेदारों को सही से समभाले और वो बुरा न मने उदाहरण के लिए, आप उन लोगो को नहीं कह सकते जो अस्वस्थ हैं। आपके अन्य बच्चों और परिवार के करीबी सदस्यों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे बच्चे से मिलने से पहले हाथ और शरीर अच्छे से साफ़ रखे।

आप अपने सहयोगियों या एक विश्वसनीय मित्र को घर पर आने वाले लोगो को सँभालने का काम दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, वे परिवार और दोस्तों को एक बार में दो लोगो के आने से या आने से कुछ दिन पहले रुकने के लिए कह सकते हैं।

आप बच्चे के कमरे के दरवाजे पर Do not distrub का साइन लगा सकते है, अपने मोबाइल फोन को साइलेंट पर रखना भी मदद कर सकता है।

अन्य माता-पिता मदद और सहायता का एक बड़ा स्रोत हो सकते हैं। यदि आप एक स्थानीय या ऑनलाइन माताओं समूह में शामिल होते हैं, तो आप अन्य नई माताओं के साथ विचारों और अनुभवों को साझा कर सकते हैं।


#kidsactivities #mentaldevelopment #kidslearning #parentingtipsinhindi #parenting #parentinginhindi #childcare #motorskills #childdevelopment #childdevelopment #babybirth #pregnancy #pregnancyinhindi

0 comments

© NOT-FOR-PROFIT VENTURES. ALL RIGHTS RESERVED